लुङ्ग् लकार - (सामान्य भूत काल), वाक्य, उदाहरण, अर्थ - संस्कृत

Lung Lakar

लुङ्ग् लकार

लुङ् - लुङ् लकार में सामान्य भूत काल का प्रयोग होता है। क्रिया के जिस रूप में भूतकाल के साधारण रूप का बोध होता है, उसे सामान्य काल कहते हैं। सामान्य भूत काल का प्रयोग प्रायः सभी अतीत कालों के लिये किया जाता है; जैसे- अहं पुस्तकम् अपाठिषम्। (मैंने पुस्तक पढ़ी।)

लुङ्ग् लकार धातु रूप उदाहरण

भू / भव् धातु

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथमपुरुषःअभूत्अभूताम्अभूवन्
मध्यमपुरुषःअभूःअभूतम्अभूत
उत्तमपुरुषःअभूवम्अभूवअभूम

चल् धातु

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअचालीत्अचालिष्टाम्अचालिषुः
मध्यम पुरुषअचालीःअचालिष्टम्अचालिष्ट
उत्तम पुरुषअचालिषम्अचालिष्वअचालिष्म

ज्ञा धातु

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअज्ञासीत्अज्ञासिष्टाम्अज्ञासिषुः
मध्यम पुरुषअज्ञासीःअज्ञासिष्टम्अज्ञासिष्ट
उत्तम पुरुषअज्ञासिषम्अज्ञासिष्वअज्ञासिष्म

कर्ता, क्रिया, वचन तथा पुरुष अनुसार लुङ् लकार के उदाहरण

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषउसने पढ़ा।
स: अपाठीत्।
उन दोनों ने पढ़ा।
तौ अपाठिष्ताम्।
उन सबने पढ़ा।
ते अपाठिषु:।
मध्यम पुरुषतुमने पढ़ा।
त्वम् अपाठी:।
तुम दोनों ने पढ़ा।
युवाम् अपाठिष्टम्
तुम सबने पढ़ा।
यूयम् अपाठिष्ट।
उत्तम पुरुषमैंने पढ़ा।
अहम् अपाठिषम्।
हम दोनों ने पढ़ा।
आवाम् अपाठिष्व।
हम सबने पढ़ा।
वयम् अपाठिष्म।
'मा था 'मास्म' के आने पर धातु से पूर्व आने वाला 'आ' हट जाता है, जैसे- क्लैव्यं मा स्म गमः पार्थ। (हे पार्थ! तुम नपुंसकता प्राप्त मत करो।) यहाँ 'मा' के आ जाने पर अगम: के 'अ' का लोप होकर केवल 'गमः शेष बचा है।

लुङ्ग् लकार में अनुवाद or लुङ्ग् लकार के वाक्य

  • तुम्हारे घर सन्तान हुई। - तव गृहे सन्तानः अभूत्।
  • महान् उत्सव हुआ। - महान् उत्सवः अभूत्।
  • तुम्हारे माता और पिता आनन्दित हुए। - तव माता च पिता च आनन्दितौ अभूताम्।
  • सभी आनन्दमग्न हो गए। - सर्वे आनन्दमग्नाः अभूवन्।
  • तुम भी प्रसन्न हुए। - त्वम् अपि प्रसन्नः अभूः।

लुङ्ग् लकार के अन्य हिन्दी वाक्यों का संस्कृत में अनुवाद

  • तुम दोनों बहुत आनन्दित हुए। - युवां भूरि आनन्दितौ अभूतम्।
  • तुम सब थकित हो गये थे। - यूयं श्रान्ताः अभूत ।
  • मैं भी थकित हो गया था। - अहम् अपि श्रान्तः अभूवम्।
  • हम दोनों उत्सव से हर्षित हुए। - आवाम् उत्सवेन हर्षितौ अभूव।
  • हम सब आनन्दित हुए। - वयम् आनन्दिताः अभूम।

Post a comment

Comments 0