निबंध | निबंध लेखन | हिन्दी निबन्ध | Essay Hindi | Hindi Nibandh

निबंध लेखन कला के महत्वपूर्ण बिन्दु

NIBANDH LEKHAN - NIBANDH IN HINDI

निबंध की परिभाषा

निबंध उस गद्य रचना को कहते हैं जिसमें एक सीमित आकार के भीतर किसी एक विषय का वर्णन या प्रतिपादन एक विशेष निजीपन, स्वच्छन्दता, सजीवता, संगति एवं सुसम्बद्धता के साथ किया जाता है। निबंध में लेखक का अपना व्यक्तित्व साफ झलकता है। उसका अपना दृष्टिकोण, शैली, भाषाधिकार, विचार शक्ति, तर्क शक्ति आदि का पूरा परिचय निबंध से प्राप्त हो जाता है।

निबंध की सबसे अच्छी परिभाषा है-

"निबंध, लेखक के व्यक्तित्व को प्रकाशित करने वाली ललित गद्य-रचना है।"
इस परिभाषा में अतिव्याप्ति दोष है। लेकिन निबंध का रूप साहित्य की अन्य विधाओं की अपेक्षा इतना स्वतंत्र है कि उसकी सटीक परिभाषा करना अत्यंत कठिन है।

निबंध गद्य लेखन की एक विधा है। लेकिन इस शब्द का प्रयोग किसी विषय की तार्किक और बौद्धिक विवेचना करने वाले लेखों के लिए भी किया जाता है। निबंध के पर्याय रूप में सन्दर्भ, रचना और प्रस्ताव का भी उल्लेख किया जाता है। लेकिन साहित्यिक आलोचना में सर्वाधिक प्रचलित शब्द निबंध ही है। इसे अंग्रेजी के कम्पोज़ीशन और एस्से के अर्थ में ग्रहण किया जाता है।

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी के अनुसार, "संस्कृत में भी निबंध का साहित्य है। प्राचीन संस्कृत साहित्य के उन निबंधों में धर्मशास्त्रीय सिद्धांतों की तार्किक व्याख्या की जाती थी। उनमें व्यक्तित्व की विशेषता नहीं होती थी। किन्तु वर्तमान काल के निबंध संस्कृत के निबंधों से ठीक उलटे हैं। उनमें व्यक्तित्व या वैयक्तिकता का गुण सर्वप्रधान है। इतिहास-बोध परम्परा की रूढ़ियों से मनुष्य के व्यक्तित्व को मुक्त करता है। निबंध की विधा का संबंध इसी इतिहास-बोध से है। यही कारण है कि निबंध की प्रधान विशेषता व्यक्तित्व का प्रकाशन है।"

निबंध की विशेषताएं

निबंध की विशेषता - सारी दुनिया की भाषाओं में निबंध को साहित्य की सृजनात्मक विधा के रूप में मान्यता आधुनिक युग में ही मिली है। आधुनिक युग में ही मध्ययुगीन धार्मिक, सामाजिक रूढ़ियों से मुक्ति का द्वार दिखाई पड़ा है। इस मुक्ति से निबंध का गहरा संबंध है।
  • एक अच्छे निबंध में संक्षिप्तता, एकसूत्रता तथा पूर्णता जैसे गुण विद्यमान होते हैं।
  • निबंध लेखक को पुनरुक्ति से बचना चाहिए तथा अपनी बात को तर्कपूर्ण ढंग से व्यक्त करना चाहिए।
  • तर्कों की पुष्टि हेतु आंकड़े, उद्धरण आदि इस प्रकार से प्रस्तुत करने चाहिए जिससे वे विषय के साथ एकरस हो जाएं, पैबन्द जुड़े हुए प्रतीत न हों।
हजारीप्रसाद द्विवेदी के अनुसार, "नए युग में जिन नवीन ढंग के निबंधों का प्रचलन हुआ है वे व्यक्ति की स्वाधीन चिन्ता की उपज है।" इस प्रकार निबंध में निबंधकार की स्वच्छंदता का विशेष महत्त्व है।

आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने लिखा है, "निबंध लेखक अपने मन की प्रवृत्ति के अनुसार स्वच्छंद गति से इधर-उधर फूटी हुई सूत्र शाखाओं पर विचरता चलता है। यही उसकी अर्थ सम्बन्धी व्यक्तिगत विशेषता है। अर्थ-संबंध-सूत्रों की टेढ़ी-मेढ़ी रेखाएँ ही भिन्न-भिन्न लेखकों के दृष्टि-पथ को निर्दिष्ट करती हैं। एक ही बात को लेकर किसी का मन किसी सम्बन्ध-सूत्र पर दौड़ता है, किसी का किसी पर। इसी का नाम है एक ही बात को भिन्न दृष्टियों से देखना। व्यक्तिगत विशेषता का मूल आधार यही है।"

इसका तात्पर्य यह है कि निबंध में किन्हीं ऐसे ठोस रचना-नियमों और तत्वों का निर्देश नहीं दिया जा सकता जिनका पालन करना निबंधकार के लिए आवश्यक है। ऐसा कहा जाता है कि निबंध एक ऐसी कलाकृति है जिसके नियम लेखक द्वारा ही आविष्कृत होते हैं। निबंध में सहज, सरल और आडम्बरहीन ढंग से व्यक्तित्व की अभिव्यक्ति होती है।

हिन्दी साहित्य कोश के अनुसार, "लेखक बिना किसी संकोच के अपने पाठकों को अपने जीवन-अनुभव सुनाता है और उन्हें आत्मीयता के साथ उनमें भाग लेने के लिए आमंत्रित करता है। उसकी यह घनिष्ठता जितनी सच्ची और सघन होगी, उसका निबंध पाठकों पर उतना ही सीधा और तीव्र असर करेगा। इसी आत्मीयता के फलस्वरूप निबंध-लेखक पाठकों को अपने पांडित्य से अभिभूत नहीं करना चाहता।"

इस प्रकार निबंध के दो विशेष गुण हैं

  1. व्यक्तित्व की अभिव्‍यक्ति
  2. सहभागिता का आत्मीय या अनौपचारिक स्तर
निबंध का आरंभ कैसे हो, बीच में क्या हो और अंत किस प्रकार किया जाए, ऐसे किसी निर्देश और नियम को मानने के लिए निबंधकार बाध्य नहीं है। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि निबंध एक उच्छृंखल रचना है और निबंधकार एक उच्छृंखल व्यक्ति। निबंधकार अपनी प्रेरणा और विषय वस्तु की संभावनाओं के अनुसार अपने व्यक्तित्व का प्रकाशन और रचना का संगठन करता है। इसी कारण निबंध में शैली का विशेष महत्त्व है।

हिन्दी साहित्य में निबंध

हिन्दी साहित्य के आधुनिक युग में भारतेन्दु और उनके सहयोगियों से निबंध लिखने की परम्परा का आरंभ होता है। निबंध ही नहीं, गद्य की कई विधाओं का प्रचलन भारतेन्दु से होता है। यह इस बात का प्रमाण है कि गद्य और उसकी विधाएँ आधुनिक मनुष्य के स्वाधीन व्यक्तित्व के अधिक अनुकूल हैं। मोटे रूप में स्वाधीनता आधुनिक मनुष्य का केन्द्रीय भाव है। इस भाव के कारण परम्परा की रूढ़ियाँ दिखाई पड़ती हैं। सामयिक परिस्थितियों का दबाव अनुभव होता है। भविष्य की संभावनाएँ खुलती जान पड़ती हैं। इसी को इतिहास-बोध कहा जाता है। भारतेन्दु युग का साहित्य इस इतिहास-बोध के कारण आधुनिक माना जाता है।

प्रमुख हिंदी निबंधकार

हिन्दी के कुछ प्रमुख निबंधकारों में - भारतेन्दु हरिश्चंद्र, प्रतापनारायण मिश्र, बालकृष्ण भट्ट, चंद्रधर शर्मा गुलेरी, बालमुकुंद गुप्त, सरदार पूर्ण सिंह, रामचन्द्र शुक्ल, महादेवी वर्मा, विद्यानिवास मिश्र, महावीर प्रसाद द्विवेदी, कुबेरनाथ राय, हजारी प्रसाद द्विवेदी, नंददुलारे वाजपेयी आदि आते हैं।
निबंधकारों की पूर्ण लिस्ट यहाँ (हिन्दी के निबंध और निबंधकार) देखें।

अच्छा निबंध लिखने के सूत्र

  • जिस विषय पर निबंध लिखना हो, उस पर पर्याप्त चिन्तन-मनन कर लेना चाहिए और विचारों को व्यवस्थित क्रम देने के लिए उसकी एक संक्षिप्त रूपरेखा भी बना लेनी चाहिए।
  • विषय-वस्तु का प्रतिपादन रूपरेखा के अनुरूप करने से उसमें सुसम्बद्धता एवं कसावट आ जाती है।
  • निबंध लेखक को सरसता का समावेश भी करना चाहिए अन्यथा वह एक तथ्य प्रधान विवरण मात्र रह जाएगा।
  • निबंध की भाषा यथासम्भव सरल सहज एवं प्रवाहपूर्ण रहनी चाहिए।
  • कठिन, कृत्रिम एवं आलंकारिक भाषा से यथासम्भव बचना चाहिए।
  • दुरूह वाक्य रचना एवं बोझिल भाषा से निबंध का सौन्दर्य एवं सौष्ठव नष्ट हो जाता है।
  • निबंध लेखक को अपने विषय पर केन्द्रित रहना चाहिए तभी उसका प्रभाव उचित रूप में पड़ता है।
  • एकसूत्रता भंग होने से निबंध बोझिल हो जाता है और उसमें पूर्णता नहीं आ पाती।

सामान्यतः निबंध को निम्न भागों में बांट लेना चाहिए :

  1. प्रस्तावना
  2. मूल विषय का प्रतिपादन
  3. समस्या पर तर्कपूर्ण चिन्तन एवं विचार
  4. समस्या से सम्बन्धित आंकड़े, उद्धरण आदि का प्रस्तुतीकरण
  5. सुझाव, निदान के उपाय
  6. उपसंहार
निबंध लेखन में सामान्यतः विवेचनात्मक, विवरणात्मक एवं विश्लेषणात्मक शैली का प्रयोग करना चाहिए। कभी-कभी निबंध आत्मकथा अथवा संभाषण शैली में भी लिखे जाते हैं। इस प्रकार के निबंधों के विषय अलग तरह के होते हैं, जैसे—गंगा नदी की आत्मकथा, यदि मैं प्रधानमन्त्री होता, सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा, पराधीन सपनेहुं सुख नाहीं आदि।
NIBANDH LEKHAN KE PRAKAR & TARIKE

निबंध के प्रकार

1. वर्णनात्मक निबंध

किसी भी स्थान, घटना, वस्तु या दृश्य का आंखों देखा अथवा परोक्ष वर्णन इस प्रकार हो कि वह यथार्थ चित्रण लगे। इसमें वर्ण्य विषय की प्रमुखता रहती है। लेखक की भावनाओं का पुट भी दृष्टिगोचर होता है। ऐसे निबंध विषयगत होते हैं। परोक्ष वर्णन (जो प्रत्यक्ष यथार्थ लगे) वाले निबंध विवरणात्मक होते हैं।

2. भावात्मक निबंध

ऐसे निबंधों में भावों अर्थात् हृदय पक्ष की प्रधानता रहती है। लेखक निर्द्वन्द्व रूप से भावनाओं की उत्ताल तरंगों में डूबता-उतराता बहता जाता है, किन्तु बुद्धि तत्व को भी नहीं छोड़ता है। वह स्वयं रस-विभोर होकर पाठक को भी रससिक्त कर देता है। इस श्रेणी में वियोगी हरि, रायकृष्ण दास के निबंध उल्लेखनीय हैं।

3. विचारात्मक निबंध

ऐसे निबंधों में लेखक के अपने विचार, मत और धारणाएं तार्किक ढंग से बुद्धि सम्मत होते हैं। ये निबंध कभी तर्क प्रधान और कभी भावना प्रधान होते हैं।

4. व्यंग्यात्मक निबंध

समाज की विद्रूपता, राजनीतिक छल-प्रपंच, आर्थिक विषमता, धार्मिक पाखण्ड, आदि पर व्यंग्य के कठोर प्रहार करके जनमानस को उद्वेलित करना तथा परोक्ष रूप से सुधार करने के साथ-साथ साहित्यिक मनोरंजन करना भी व्यंग्यात्मक निबंधों का उद्देश्य होता है।

5. आत्मपरक निबंध (ललित निबंध)

अटपटे शीर्षक, विषम-सामान्य कल्पनाओं की उड़ान इन निबंधों में होती है जिनमें लेखक का व्यक्तित्व अधिक मुखर, स्पष्ट और प्रभावी होता है। इन्हें ललित निबंध भी कहते हैं।
NIBANDH LEKHAN MEIN PRAYOG HONE VAALI SUKTIYA

निबंध लेखन में प्रयुक्त होने वाली प्रमुख सूक्तियां

1. संस्कृत की निबंध लेखन में प्रयुक्त होने वाली प्रमुख सूक्तियां

  1. जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी (माता और जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर हैं।)
  2. नास्ति क्रोध समो रिपुः (क्रोध के समान कोई शत्रु नहीं है।)
  3. दैवेन देयमिति कापुरुषा वदन्ति (दैव दैव हा आलसी पुकारा भाग्य भरोसे कायर रहते हैं।)
  4. नहि ज्ञानेन सदृशं पवित्रमिह विद्यते (ज्ञान के समान कुछ भी इस संसार में पवित्र नहीं है।)
  5. परोपकाराय सतां विभूतयः (सज्जनों का धन परोपकार के लिए होता है।)
  6. बुभुक्षितः किं न करोति पापम् ? (भूखा कौन-सा पाप नहीं कर सकता?)
  7. भोगो भूषयते धनम् (धन तो उपभोग से ही सुशोभित होता है-संग्रह से नहीं।)
  8. महाजनो येन गतः स पन्थाः (महापुरुष द्वारा अपनाया गया ही श्रेष्ठ मार्ग है।)
  9. मानो हि महताम् धनम् (महान लोगों का धन मान ही है।)
  10. मा ब्रूहि दीनं वचः (दीन वचन मत बोलो स्वाभिमान की रक्षा करो।)
  11. मातृवत् परदारेषु, परद्रव्येषु लोष्ठवत् । (पर स्त्री माता के समान और पराया धन मिट्टी के समान है।)
  12. यस्तु क्रियावान् पुरुषः स एव (क्रियाशील व्यक्ति ही पुरुष है।)
  13. यले कृते यदि न सिध्यति कोऽत्र दोषः (पूर्ण प्रयास करने पर भी असफलता मिले तो निराश न होकर दोष (कमी) को खोजो।)
  14. वचने का दरिद्रता? (मधुर बोलने में क्या कोताही?)
  15. विद्यारत्नं महाधनम् (विद्यारूपी रत्न सबसे बड़ा धन है।)
  16. विद्या धर्मेण शोभते (विद्या धर्म के साथ ही सुशोभित होती है।)
  17. वीर भोग्या वसुन्धरा (वीर ही पृथ्वी का उपभोग करते हैं।)
  18. विनाशकाले विपरीत बुद्धिः (विनाश के समय बुद्धि भी विपरीत (कुण्ठित) हो जाती है।)
  19. प्रत्यक्षं किम् प्रमाणम्? (हाथ कंगन को आरसी क्या?)
  20. शीलं हि सर्वनरस्य भूषणम् (शील ही मनुष्य की शोभा है ?)
  21. शठे शाठ्यं समाचरेत् (दुष्ट के साथ दुष्टता का व्यवहार करें।)
  22. शरीरमाद्यं खलुधर्मसाधनम् (धर्म पालन का प्रथम साधन शरीर ही है।)
  23. शत्रोरपि गुणा वाच्याः (शत्रु के गुणों को भी कहना चाहिए।)
  24. सत्यमेव जयते नाऽनृतम् (सत्य की जीत होती है, झूठ की नहीं।)
  25. सर्वेभद्राणि पश्यन्तु (सभी लोग कल्याणों को देखें (पाएं)।)
  26. सम्पूर्ण कुम्भो न करोति शब्दम् (भरा हुआ घड़ा छलकता नहीं है।)
  27. सन्तोष एव पुरुषस्य परम धनम् (सन्तोष मनुष्य का सबसे बड़ा धन है।)
  28. सुलभा रम्यता लोके, दुर्लभो हि गुणार्जनम् (संसार में सुन्दरता तो सुलभ है किन्तु गुण ग्रहण करना कठिन है।)
  29. स्वाध्यायान्मा प्रमदः (स्वाध्याय में आलस्य मत करो।)
  30. हितं मनोहारि च वचः दुर्लभम् ! (हितकारी और मनोहर वचन (कहने वाले) दुर्लभ ही होते हैं।
  31. हा हन्त! हन्त! नलिनी गज उज्जहार। (मनुष्य का संकल्प, ईश्वर का विकल्प)

2. अंग्रेजी की निबंध लेखन में प्रयुक्त होने वाली महत्वपूर्ण उक्तियां

  1. A man is known by the company he keeps. (संगति से ही मनुष्य की पहचान होती है।)
  2. A thing of beauty is a joy forever. (सौन्दर्य सर्वदा आनन्ददायक है।)
  3. A sound mind devils in a healthy body. (स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क रहता है।)
  4. All is well that ends well. (अन्त भला तो सब भला।)
  5. Afriend in need is a friend indeed. (मित्र वही जो मुसीबतों में काम आए।)
  6. Arolling stone gathers no moss. (थाली का लुढ़कता बैंगन, डांवाडोल मनःस्थिति वाले की स्थिति खराब ही रहती है।)
  7. Alie has no legs to stand upon. (झूठ के पैर नहीं होते।)
  8. As you sow, so you reap. (जैसा बोओगे वैसा काटोगे, जैसी करनी वैसी भरनी, बोवे पेड़ बबूल का आम कहां से खाय।)
  9. Barking dogs seldon bite. (जो गरजते हैं वे बरसते नहीं।)
  10. Beware of flatterers. (खुशामदियों से सावधान रहो।)
  11. Cut your coat according to your cloth. (तेते पांव पसारिए जेते लाम्बी सौर।)
  12. Do unto others as you wish to be done by. (दूसरों के साथ वैसा ही व्यवहार करो जैसा तम अपने प्रति चाहते हो।)
  13. Crying over the spice milk. (अब पछताए होत कहा, जब चिड़ियां चुग गई खेत।)
  14. Crying in wilderness. (अरण्य रोदन, भैंस के आगे बीन बजाना।)
  15. Empty vessel makes much noise. (अधजल गगरी छलकत जाए।)
  16. Health is wealth. (स्वास्थ्य ही धन है।)
  17. If winter comes, can spring be far behind? (रात हुई है तो सबेरा भी आएगा, जब पतझड़ आया है तो क्या वसन्त दूर है? (नहीं)
  18. It is dangerous to be too good. (बहुत अच्छा होना खतरनाक है।)
  19. It takes two to make a quarrel. (एक हाथ से ताली नहीं बजती।)
  20. Love is stronger than thought. (प्रेम विचारों से अधिक शक्तिशाली है।)
  21. Love is God. (प्रेम ईश्वरमय है।)
  22. Our sweetest songs are those that tell us seddest thought. (वेदनापूर्ण गीत ही मधुरतम हैं।)
  23. Science is an organised knowledge. (विज्ञान एक व्यवस्थित ज्ञान है।)
  24. Slavery is a system of the most complete injustice. (दासता अन्याय का प्रतीक है।)
  25. Sweet are the uses of adversity. (विपत्ति के परिणाम मधुर होते हैं।)
  26. Slow and steady wins the race. (निरन्तर परिश्रमी की ही विजय होती है।)
  27. Studies serve for delight, for ornament and for ability. (अध्ययन से प्रसन्नता, ज्ञान और योग्यता होती है।)
  28. Practice makes aman perfect. (करत-करत अभ्यास के जड़मति होय सुजान।)
  29. Prevention is better than cure. (एक परहेज, सौ इलाज।)
  30. Pride goeth before fall. (घमण्डी का सिर नीचा।)
  31. Comingevents cast their shadows before. (होनहार बिरवान के होत चीकने पात)
  32. Travel teaches tradition. (देशाटन ज्ञान की वृद्धि करता है।)
  33. Time and tide wait for none. (समय व ज्वार किसी की प्रतीक्षा नहीं करते।)
  34. Truth fears no examination. (सांच को आंच नहीं।)
  35. Tit for tat. (जैसे को तैसा।)
  36. To error is human. (मनुष्य से गलती हो जाना स्वाभाविक है।)
  37. Simple living and high thinking. (सादा जीवन उच्च विचार)
  38. Union is strength. (संगठन में शक्ति है।)
  39. Words are the tabel of thoughts. (शब्द विचारों के परिचायक है।)
IMPORTANT TOPICS OF HINDI NIBANDH LEKHAN

हिन्दी निबंध लेखन के महत्वपूर्ण टॉपिक की लिस्ट

इस लिस्ट में जो निबंध के उदाहरण दिए गए है उनका कठिनाई स्तर हाईस्कूल / इंटरमीडिएट लेवल का है यानी 10th और 12th के पाठ्यक्रम को ध्यान में रखकर लिखे गए हैं। 
  1. साहित्य और समाज
  2. राष्ट्र भाषा हिंदी
  3. मेरा प्रिय कवि : तुलसीदास
  4. मेरी प्रिय पुस्तक : रामचरितमानस
  5. भारतीय समाज में नारी का स्थान
  6. दहेज़ प्रथा : एक अभिशाप
  7. बेरोजगारी की समस्या
  8. युवा शक्ति में असंतोष : कारण और निवारण
  9. आरक्षण नीति
  10. आतंकवाद
  11. भ्रष्टाचार : कारण एवं निवारण
  12. नशाखोरी : एक अभिशाप
  13. विज्ञान की उपलब्धियां
  14. कंप्यूटर : महत्त्व एवं उपयोगिता
  15. दूरदर्शन का प्रभाव
  16. प्रदूषण : कारण एवं निवारण
  17. भारत में अंतरिक्ष अनुसन्धान : इसरो
  18. राष्ट्रीय एकता
  19. भारत की प्रमुख समस्याएं
  20. शिक्षा का निजीकरण
  21. परिवार नियोजन - जनसंख्या वृद्धि को रोकने के उपाय
  22. मंहगाई की समस्या
  23. साम्प्रदायिक सद्भाव - साम्प्रदायिकता की समस्या
  24. प्रौढ़ शिक्षा
  25. स्वदेश प्रेम
  26. समाचार पत्रों की उपयोगिता
  27. परोपकार : परहित सरिस धरम नहिं भाई
  28. स्वाधीनता का महत्त्व
  29. मन की शक्ति
  30. यदि मैं प्रधानमंत्री होता
  31. मेरा प्रिय लेखक : मुंशी प्रेमचंद
  32. नारी शिक्षा या महिला सशक्तिकरण
  33. पर उपदेश कुशल बहुतेरे
हिन्दी व्याकरण पत्र लेखन देखने के लिए तथा सभी टॉपिक - "Patra Lekhan"
देखें हिन्दी व्याकरण के सभी टॉपिक - "Hindi Grammar"