उपमा और उत्प्रेक्षा अलंकार युग्म में अंतर

उपमा और उत्प्रेक्षा

उपमा में उपमेय और उपमान की समानता गुण, धर्म, क्रिया आदि के आधार पर बताई जाती है यथा-
फूलों सा चेहरा तेरा
यहां चेहरे (मुख) की तुलना फूलों से कोमलता के कारण की गई है।

उत्प्रेक्षा में उपमेय में उपमान की कल्पना या संभावना की जाती है। यथा-
मुख मानो चन्द्रमा है।
UPMA AUR UTPREKSHA MEIN ANTAR

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।