उपमा और रूपक अलंकार युग्म में अंतर

उपमा और रूपक 

उपमा में उपमेय और उपमान की समानता बताई जाती है, यथा-
हरि पद कोमल कमल से
यहां ईश्वर के चरणों की समानता कमल की कोमलता से बताई गई है।

रूपक में उपमेय पर उपमान का अभेद आरोप होता है। यथा-
मन मधुकर पन कै तुलसी रघुपति पद कमल बसैहौं।
यहां मन पर भ्रमर का तथा पद पर कमल का अभेद आरोप किया गया है अतः रूपक अलंकार है।
upama aur roopak mein antar - difference between upama and roopak alankar

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।