सप्तक के कवि - सभी सप्तक और उनके कवियों के नाम

SAPTAK KE KAVI AND UNAKE NAAM

सप्तक के कवि

सप्तक का मतलब होता हैं सात अर्थात सात कवियों का समूह। सप्तक के कवियों का जन्म प्रयोगवाद (1943 ई० से...) से शुरू होता है। प्रयोगवाद क्या हैं? प्रयोगवाद में प्रथम सप्तक के कवि का जन्म हुआ। प्रथम सप्तक के कवि 'तार सप्तक' के कवि कहलाते है। आम तौर पर 'दूसरा सप्तक' और 'तीसरा सप्तक' के कवियों को नयी कविता के कवियों में शामिल किया जाता है।

सप्तक के कवियों का विभाजन

सप्तक के कवियों को उनकी कविता रचनाओं की प्रकृति के आधार पर चार भागों में बांटा गया है। प्रथम सप्तक 'तार सप्तक' कहलाता है, इस सप्तक के कवियों उदय या जन्म या प्रभाव प्रयोगवाद (1943 ई० से...) से शुरू हुआ। दूसरे और तीसरे सप्तक के कवियों का समयकाल नयी कविता (1951 ई० से...) से है। चौथे सप्तक के कवि 1979 ई० से प्रकाश में आये। इन्होने अपने-अपने समयकालों में अद्भुत रचनाएँ की।
  1. तार सप्तक (1943 ई०)
  2. दूसरा सप्तक (1951 ई०)
  3. तीसरा सप्तक (1959 ई०)
  4. चौथा सप्तक (1979 ई०)

1. तार सप्तक

तार सप्तक के कवि (1943 ई०)- अज्ञेय, मुक्तिबोध, गिरिजाकुमार माथुर, प्रभाकर माचवे, भारत भूषण अग्रवाल, नेमिचन्द्र जैन, रामविलास शर्मा।

2. दूसरा सप्तक

दूसरे सप्तक के कवि (1951 ई०)- रघुवीर सहाय, धर्मवीर भारती, नरेश मेहता, शमशेर बहादुर सिंह, भवानी प्रसाद मिश्र, शकुंतला माथुर व हरि नारायण व्यास।

3. तीसरा सप्तक

तीसरे सप्तक के कवि (1959 ई०)- कीर्ति चौधरी, प्रयाग नारायण त्रिपाठी, केदार नाथ सिंह, कुँवर नारायण, विजयदेव नारायण साही, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना व मदन वात्स्यायन।

4. चौथा सप्तक

चौथे सप्तक के कवि (1979 ई०)- अवधेश कुमार, राजकुमार कुम्भज, स्वदेश भारती, नंद किशोर आचार्य, सुमन राजे, श्रीराम वर्मा, राजेंद्र किशोर।