समासोक्ति अलंकार - Samasokti Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

समासोक्ति अलंकार - Samasokti Alankar

समासोक्ति अलंकार 

‘परोक्तिभेदकैः श्लिष्टैः समासोक्तिः' - श्लेषयुक्त विशेषणों के द्वारा दो अर्थों का संक्षेप होने से समासोक्ति अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से एक हैं।

समासोक्ति अलंकार के उदाहरण

लब्ध्वा तव बाहुस्पर्श यस्याः सो कोऽप्युल्लासः ।
जय लक्ष्मीस्तव विरहे न खलुज्ज्वला दुर्बला ननु सा ।।
स्पष्टीकरण- यहाँ केवल ‘जय लक्ष्मी' शब्द कान्ता का वाचक है। अर्थात् जय लक्ष्मी शब्द नायिका का बोधक है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।