पर्याय अलंकार - पर्यायालंकार - हिन्दी & संस्कृत - व्याकरण

पर्याय अलंकार -  पर्यायालंकार

पर्याय अलंकार (पर्यायालंकार)

परिभाषा: "एक क्रमेणानेकस्मिन् पर्यायः" - एक क्रम से अनेक में पर्यायालंकार होता है। यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण (Hindi Grammar) के अलंकार के भेदों में से एक हैं।

उदाहरणस्वरूप : (पर्याय अलंकार - पर्यायालंकार के उदाहरण)

बिम्वोष्ठ एव रागस्ते तन्वि! पूर्वमदश्यत ।।
अधुना हृदयेऽप्येष मृगशावाक्षिः लक्ष्यते ।।
स्पष्टीकरण- यहाँ राग का वस्तुतः भेद होने पर भी औपचारिक एकत्व मान लेने से एकत्व का विरोध नहीं होता।


 

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।