कारणमाला अलंकार - कारणमालालंकारः - KARAN MALA - ALANKAR

कारणमाला अलंकार - कारणमालालंकार

कारणमाला अलंकार (कारणमालालंकारः)

परिभाषा: 'यथोत्तरं चेत्पूर्वस्य पूर्वस्यार्थस्य हेतुता। तदा कारणमाला स्यात्' - जहाँ अगले-अगले अर्थ के पहले-पहले अर्थ हेतु हों, वहाँ कारणमालालंकार होता है। (यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण(Hindi Grammar) के Alankar के भेदों में से एक हैं।)

उदाहरणस्वरूप :

1.
जितेन्द्रियत्वं विनयस्य कारणं गुणप्रकर्षों विनयादवाप्यते ।।
गुणप्रकर्षण जनोऽनुरज्यते जनानुरागप्रभवा हि सम्पदः ।।
2.
विदया ददाति विनयं विनयात् आयाति पात्रताम् ।
पात्रत्वात् धनम् आप्नोति धनाधर्मः सुखम् ।।


 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।