स्था (तिष्ठ) धातु के रूप - Tishth / Stha Dhatu Roop - संस्कृत

Tishth / Stha Dhatu

स्था (तिष्ठ) धातु (ठहरना/प्रतीक्षा करना, to stay / to wait): स्था (तिष्ठ) धातु भ्वादिगणीय धातु शब्द है। अतः Tishth / Stha Dhatu के Dhatu Roop की तरह स्था (तिष्ठ) जैसे सभी भ्वादिगणीय धातु के धातु रूप (Dhatu Roop) इसी प्रकार बनाते है।
स्था (तिष्ठ) धातु का गण (Conjugation): भ्वादिगण (प्रथम गण - First Conjugation)
स्था (तिष्ठ) का अर्थ: स्था (तिष्ठ) का अर्थ ठहरना/प्रतीक्षा करना, to stay / to wait होता है।

स्था (तिष्ठ) के धातु रूप (Dhatu Roop of Tishth / Stha) - परस्मैपदी

स्था (तिष्ठ) धातु के धातु रूप संस्कृत में सभी लकारों, पुरुष एवं तीनों वचन में स्था (तिष्ठ) धातु रूप (Tishth / Stha Dhatu Roop) नीचे दिये गये हैं।

1. लट् लकार - वर्तमान काल

पुरुष एकवचन द्विवचन वहुवचन
प्रथम पुरुष तिष्ठति तिष्ठत: तिष्ठन्ति
मध्यम पुरुष तिष्ठसि तिष्ठथः तिष्ठथ
उत्तम पुरुष तिष्ठामि तिष्ठावः तिष्ठामः

2. लोट् लकार - अनुज्ञा

पुरुष एकवचन द्विवचन वहुवचन
प्रथम पुरुष तिष्ठतु तिष्ठताम् तिष्ठन्तु
मध्यम पुरुष तिष्ठ तिष्ठतम् तिष्ठत
उत्तम पुरुष तिष्ठानि तिष्ठाव तिष्ठाम

3. लङ् लकार - भूतकाल

पुरुष एकवचन द्विवचन वहुवचन
प्रथम पुरुष अतिष्ठत् अतिष्ठातम् अतिष्ठन्
मध्यम पुरुष अतिष्ठः अतिष्ठतम् अतिष्ठत
उत्तम पुरुष अतिष्ठम् अतिष्ठाव अतिष्ठाम

4. विधिलिङ् लकार - चाहिए के अर्थ में

पुरुष एकवचन द्विवचन वहुवचन
प्रथम पुरुष तिष्ठेत् तिष्ठेताम् तिष्ठेयुः
मध्यम पुरुष तिष्ठेः तिष्ठेतम् तिष्ठेत
उत्तम पुरुष तिष्ठेयम् तिष्ठेव तिष्ठेम

5. लृट् लकार - भविष्यत्

पुरुष एकवचन द्विवचन वहुवचन
प्रथम पुरुष स्थास्यति स्थास्यतः स्थास्यन्ति
मध्यम पुरुष स्थास्यसि स्थास्यथः स्थास्यथ
उत्तम पुरुष स्थास्यामि स्थास्यावः स्थास्यामः
संस्कृत में शब्द रूप देखने के लिए Shabd Roop पर क्लिक करें और नाम धातु रूप देखने के लिए Nam Dhatu Roop पर जायें।