यद् (जो, Who) नपुंसकलिंग शब्द के रूप - Yad Napunsak Ling ke roop - Sanskrit

यद् नपुंसकलिंग शब्द के रूप

यद् नपुंसकलिंग शब्द (Who, Which जो): यद् (जो) नपुंसकलिंग सर्वनाम, नपुंसकलिंग में प्रथमा और द्वितीया को छोडकर शेष सभी शब्द रूप पुल्लिंग की भाँति होते हैं। यदादि - यद्, तद्, एतद्, किम् - इन शब्दों का क्रमशः य: , स: , एष: , स्य: , क: होता है। और सर्व्वादि के तुल्य रूप होते हैं। नपुंसकलिंग में प्रथमा और द्वतीया के एकवचन में यत् , तत् , एतत् , त्यत् , किम् होता है। स्त्रीलिंग में इन शब्दों का रूप या , सा , एषा , स्या, का, होता है। सर्वनाम का सम्बोधन नहीं होता है।

यद् नपुंसकलिंग के रूप

विभक्तिएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथमा यत् ये यानि
द्वितीया यत् ये यानि
तृतीया येन याभ्याम् यैः
चतुर्थी यस्मै याभ्याम् येभ्यः
पंचमी यस्मात् याभ्याम् येभ्यः
षष्ठी यस्य ययोः येषाम्
सप्तमी यस्मिन् ययोः येषु

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

Shabd roop of Yad Napunsak Ling

Yad Napunsak Ling ke roop - Sanskrit Shabd Roop