वीर रस की कविता (Veer Ras Ki Kavita)
वीर रस की कविता (Veer Ras Ki Kavita)

सच है, विपत्ति जब आती है,
कायर को ही दहलाती है,
सूरमा नहीं विचलित होते,
क्षण एक नहीं धीरज खोते,
विघ्नों को गले लगाते हैं,
काँटों में राह बनाते हैं।

मुँह से न कभी उफ़ कहते हैं,
संकट का चरण न गहते हैं,
जो आ पड़ता सब सहते हैं,
उद्योग – निरत नित रहते हैं,
शूलों का मूल नसाते हैं,
बढ़ खुद विपत्ति पर छाते हैं।

है कौन विघ्न ऐसा जग में,
टिक सके आदमी के मग में?
ख़म ठोंक ठेलता है जब नर
पर्वत के जाते पाँव उखड़,
मानव जब जोर लगाता है,
पत्थर पानी बन जाता है।

गुन बड़े एक से एक प्रखर,
हैं छिपे मानवों के भीतर,
मेहँदी में जैसी लाली हो,
वर्तिका – बीच उजियाली हो,
बत्ती जो नहीं जलाता है,
रोशनी नहीं वह पाता है।

~ रामधारी सिंह 'दिनकर'

hai, vipatti jab aatee hai,
kaayar ko hee dahalaatee hai,
soorama nahin vichalit hote,
kshan ek nahin dheeraj khote,
vighnon ko gale lagaate hain,
kaanton mein raah banaate hain.

munh se na kabhee uf kahate hain,
sankat ka charan na gahate hain,
jo aa padata sab sahate hain,
udyog – nirat nit rahate hain,
shoolon ka mool nasaate hain,
badh khud vipatti par chhaate hain.

hai kaun vighn aisa jag mein,
tik sake aadamee ke mag mein?
kham thonk thelata hai jab nar
parvat ke jaate paanv ukhad,
maanav jab jor lagaata hai,
patthar paanee ban jaata hai.

gun bade ek se ek prakhar,
hain chhipe maanavon ke bheetar,
mehandee mein jaisee laalee ho,
vartika – beech ujiyaalee ho,
battee jo nahin jalaata hai,
roshanee nahin vah paata hai.

~Ram Dhari Singh 'Dinkar'